सामयिक वार्ता

चुनौतिपूर्ण वक्त में भारत अमरीका बातचीत।


भारत और अमरीका के दरम्यान कूटनीतिक और सुरक्षा मामलों पर बातचीत के नवें दौर में अनेक चुनौतियाँ हावी रहीं। इनमें अमरीका द्वारा ईरान और रूस पर लगाई गईं पाबंदियाँ, भारत को इन मुल्कां से तेलखरीद की समयसीमा के विस्तार, ट्रम्प प्रशासन द्वारा भारत को सामान्य वरीयता व्यवस्था यानि जी.एस.पी. से बाहर करने की चेतावनी, भारत को वेनेजुएला से खजिजईंधन न खरीदने की ताकीद, व्यापारस्पर्धा और एच वन बी वीज़ा संबंधी मुद्दे शामिल हैं। इन मसलों के समाधान के लिए भारतीय विदेशसचिव विजय गोखले और विदेशमंत्रालय के निःशस्त्रीकरण तथा अन्तर्राष्ट्रीय सुरक्षा विभाग के अतिरिक्त सचिव इन्द्रमणि पाण्डेय  ने पिछले दिनों वॉशिंगटन डी.सी. में सम्बद्ध पक्षों से बातचीत की। इनमें अमरीकी शस्त्र नियंत्रण और अन्तर्राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के उपमंत्री एन्डेरा थॉम्सन और वरिष्ठ मन्त्री डॉ. यलीम डी.एस. पॉब्लेट शामिल थे। दोनों पक्षों ने तय एजेंडे के साथ ही तीसरी भारत-अमरीका अन्तरिक्ष वार्ता के तहत अहम मुद्दों पर चर्चा की। नवीं भारत-अमरीका बातचीत सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक माहौल में सम्पन्न हुई। इस दौरान आपसी हित के तमाम मसलों पर विस्तार से चर्चा की गई। इनमें परमाणु अप्रसार, आणविक शस्त्रों को आतंकी तत्त्वों से बचाने, नागरिक परमाणु सहयोग को मज़बूत करने, भारत में अमरीकी परमाणु रिएक्टरों की स्थापना और परमाणु आपूर्ति समूह में भारत की शुमारगी शामिल हैं। इनके अलावा अन्तरिक्ष में मौजूदा चुनौतियों से निपटने, नए मौकां की तलाश और इस क्षेत्र में आपसी तथा सामूहिक सहयोग गहराने के तौर-तरीकों पर भी बात की गई। हालिया बातचीत ऐसे माहौल में हुई है जबकि भारत पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद द्वारा सी.आर.पी.एफ. के काफिले पर फिदायीन हमले में जवानों की शहीदी को लेकर आक्रामक तेवर अपनाए हुए है। ट्रम्प प्रशासन ने इस कायराना हमले की तीखी आलोचना की है और पाकिस्तान से उसकी सरज़मीं पर पसरे आतंकवाद पर सख्त कदम उठाने की ताकीद की है। उसने पाकिस्तान को भारत के खिलाफ गै़रकानूनी तौर पर एफ 16 विमानों के इस्तेमाल पर चेतावनी भी दी है। बातचीत के बाद जारी संयुक्त घोषणापत्र में व्यापक एजेंडे को देखते हुए किसी खास वाकये की चर्चा से परहेज़ रखा गया। पिछले कुछ वक्त से अमरीका ने पाकिस्तान की तरफ अपने रवैये में तल्खी का इज़हार किया है। उसने पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद के खिलाफ माकूल कार्रवाई में नरमी के चलते उसको दी जाने वाली माली सहायता में भी भारी कटौती कर दी है। ऐसा लगता है कि अमरीका की इस सख्ती का पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद को शह देने की नीति पर खास असर नहीं पड़ा है। पुलवामा में भारतीय सुरक्षाबलों पर आत्मघाती हमले और अफगानिस्तान में जारी हिंसा से यह साफ है कि पाकिस्तान ने अमरीका द्वारा आतंकवाद के सफाए के लिए दी गई मदद का वाजिब इस्तेमाल नहीं किया है। इससे न केवल पाकिस्तान के करीबी मुल्कों में आतंकी हमलों में इज़ाफ़ा हुआ है; बल्कि दक्षिण एशिया में अमरीकी हितों को भी चोट पहुँची है। माना जा रहा है कि बातचीत के दौरान भारतीय शिष्टमंडल ने आतंकवाद से निपटने में चीन के असहयोग का मुद्दा भी उठाया। चीन; जिन्ज़ियांग में आतंकवाद के बढ़ते खतरे पर चिन्ता जताने के बावजूद, मसूद अज़हर के मुद्दे पर संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा कठोर कार्रवाई के लिए सहमत नहीं है। उसके वीटो के कारण सुरक्षा परिषद में अबतक मसूद को अन्तर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं किया जा सका है। बातचीत के दौरान भारत अमरीका व्यापार से जुड़े मुद्दों के जल्द समाधान पर भी बल दिया गया। हालांकि दोनों पक्ष इस बात पर सहमत दिखे कि आपसी व्यापारिक विवादों का सौहार्दपूर्ण समाधान खोजा जाना चाहिए। वॉशिंगटन और नई दिल्ली के बीच प्रतिरक्षा मामलों में अहम सहयोग को देखते हुए अन्य मुद्दों को अनदेखा नहीं किया जा सकता। ज्ञातव्य है कि पिछले दिनों ट्रम्प प्रशासन ने एल्यूमीनियम और स्टील पर कर में एकतरफा तौर पर इज़ाफा कर दिया था। इसके अलावा एच वन बी वीज़ा पर भी अतिरिक्त पाबंदियाँ लगा दी गई थीं। भारत द्वारा बौद्धिक सम्पदा प्रावधानों का हवाला दिए जाने पर अमरीका ने उसे सामान्य वरीयता व्यवस्था यानि जी.एस.पी. से बाहर करने की चेतावनी दी। अगर वह ऐसा करता है तो अमरीका को भारतीय निर्यात में तकरीबन 5 बिलियन डॉलर की कमी आ सकती है। भारत का मानना है कि इन मुद्दों का समाधान जल्दी से जल्दी और बातचीत के माध्यम से निकाला जाना चाहिए। भारत-अमरीका सुरक्षा और कूटनीतिक वार्ता के बाद आर्थिक और प्रतिरक्षा बातचीत का आयोजन होना चाहिए; क्योंकि इन सभी मुद्दों पर समग्र चर्चा से ही दोनों पक्षों के बीच सन्तुलित रिश्तों की स्थापना हो पाएगी। आलेख - चिन्तामणि महापात्र, समउपकुलपति और अध्यक्ष; अमरीकन अध्ययन केन्द्र, जे.एन.यू. अनुवाद और वाचन - डॉ. श्रुतिकान्त पाण्डेय

चीन ने यूएन द्वारा अज़हर पर प्रतिबंध को फिर रोका


चीन ने लगातार चौथी बार पाकिस्तान में मौजूद जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी बनाए जाने के प्रयास को रोक दिया है। ये गुट भारत के जम्मू-कश्मीर में हुए पुलवामा आतंकी हमले के लिए ज़िम्मेदार है। इस हमले में चालीस से अधिक पुलिसकर्मी मारे गए और…

नेपाल को मधेसी समस्याओं को दूर करने की ज़रूरत


नेपाल की राष्ट्रीय जनता पार्टी या राजपन द्वारा के.पी. शर्मा ओली सरकार से समर्थन वापिस लिए जाने की घोषणा करना इसका साफ़ संकेत है कि भारत के सीमावर्ती अपेक्षाकृत शांत और स्थिर मधेस क्षेत्र में लोगों के बीच नाराज़गी बढ़ रही है। राजपन नेतृत्व ने घोषणा की है कि वे…

भारत – सउदी संबंधों में एक नया आयाम


भारत तथा सउदी अरबिया के बीच के द्विपक्षीय संबंधों की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए क्राउन प्रिन्स मोहम्मद बिन सलमान की नई दिल्ली की यात्रा महत्वपूर्ण रही है | द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाते हुए सउदी विदेश राज्य मंत्री, अडेल अल-जुबेर ने नई दिल्ली की यात्रा की | भारत के विदेश…

आम चुनावों की घोषणा


भारत के निर्वाचन आयोग ( ईसीआई ) ने भारतीय संसद की 17 वीं लोकसभा के लिए सात चरणों में चुनाव कराने की घोषणा की है | चुनाव की पूरी प्रक्रिया 29 मई 2019 तक पूरी कर ली जाएगी | पहले चरण के चुनाव 11 अप्रैल को होंगे तथा अंतिम चरण…

पैराग्वे तथा कोस्टा-रिका के साथ भारत के सम्बन्ध


भारत के उप राष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने दक्षिण अमरीकी देश, पैराग्वे तथा मध्य अमरीकी देश, कोस्टा-रिका की महत्वपूर्ण यात्राएं कीं | भारत की ओर से इन दो राष्ट्रों की ये पहली उच्च स्तरीय यात्राएं थीं | पहले उप राष्ट्रपति ने 5 से 7 मार्च तक पैराग्वे  की यात्रा…

भारत और अफ्रीका के मज़बूत होते सम्बन्ध।


हालिया दौर में भारत और अफ्रीका के बीच सम्पर्क और सहयोग में इज़ाफ़ा हुआ है। इसकी बनिस्बत दोनों पक्षों की आर्थिक सहभागिता और विकासगति तेज़ हुई है। भारत ने न केवल अपनी आर्थिक और विदेशनीति में अफ्रीकी मुल्कों को सर्वोच्च वरीयता दी; बल्कि वाणिज्यिक, साँस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक दायरों में अनेक नए कदमों…

भारत,अमरीका और प्राथमिकताओं की सामान्यीकृत व्यवस्था


अमरीकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अमरीकी कांग्रेस को लिखे एक पत्र में घोषणा की है कि वे टर्की के साथ भारत के लिए भी अनुकूल व्यापारिक प्रावधान को समाप्त करने का फ़ैसला ले चुके हैं | यह निर्णय प्राथमिकताओं की सामान्यीकृत प्रणाली (जी एस पी) कार्यक्रम के अंतर्गत एक विकासशील…

दाएश का उत्थान और पतन


लगभग पाँच साल पहले जून 2014 में इराक के मोसुल शहर पर कब्जा कर दाएश अर्थात इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया अथवा आईएस ने सुर्खियां बटोरी थीं। दाएश के लड़ाकों ने इस नगर के प्रशासन पर पूरा अधिपत्य स्थापित कर कत्लेआम मचा दिया था। इसके बाद यह आतंकी संगठन…

पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद को ईरान का जवाब


ऐसे में जबकि पाकिस्तान की आतंकवाद परस्ती की नीति ने भारत के सब्र का बांध तोड़ दिया है पाकिस्तान के एक अन्य पड़ोसी देश ईरान ने भी ऐसी ही प्रतिक्रिया दी है। भारत के जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के ठीक एक दिन पहले ही ईरान में…