संसद में इस सप्ताह

राष्ट्र ने मंगलवार, 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मनाया | ध्यातव्य है कि 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने भारतीय संविधान को अंगीकार किया था, इस तिथि को चिन्हित करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है | 26 जनवरी 1950 को संविधान प्रभाव में आया, जिसने भारतीय गणतन्त्र के इतिहास में एक नए युग की शुरुआत को चिन्हित किया | इस दिन के आयोजन के एक हिस्से के रूप में, संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों की एक साझा बैठक हुई | इस साझा बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने कहा कि अधिकार और कर्तव्य एक ही सिक्के के दो पहलू हैं तथा उन्होंने कहा कि प्रत्येक नागरिक को अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक रहने की आवश्यकता है | उन्होंने कहा कि लोगों को अपने कर्तव्यों को निबाहने और इसके लिए अनुकूल परिस्थितियाँ उत्पन्न करने की आवश्यकता है, ऐसा करके वे अपने अधिकारों की रक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं |उन्होंने राज्य सभा के 250वें सत्र को चिन्हित करने के लिए भारत के संसदीय गणतन्त्र में राज्य सभा की भूमिका पर एक पुस्तक, एक स्मारक सिक्का तथा स्टांप का लोकार्पण किया| उन्होंने एक डिजिटल प्रदर्शनी का भी उदघाटन किया | प्रधान मंत्री, नरेंद्र मोदी ने संविधान निर्माता डॉ॰ भीमराव अंबेडकर की आकांक्षाओं को स्मरण किया | उन्होंने संविधान को एक पवित्र ग्रंथ तथा एक मार्गदर्शक प्रकाश कहा |उन्होंने संविधान की शक्ति तथा समावेशिता का उल्लेख करते हुए कहा कि यह नागरिकों के अधिकारों तथा कर्तव्यों दोनों को दर्शाता है, जो इनके वास्तविक स्वरूप है | राज्य सभा के अध्यक्ष, उप-राष्ट्रपति एम॰ वेंकैया नायडू ने कहा कि गत 70 वर्षों में, देश ने न केवल लोकतान्त्रिक संविधान का पालन किया है,बल्कि इसने संविधान में प्राण फूंकने तथा लोकतान्त्रिक मर्यादाओं को गहरा बनाने में आश्चर्यजनक प्रगति भी की है |

विदेश मंत्री, एस॰ जयशंकर ने बुधवार को लोकसभा को सूचित किया कि भारत ने जम्मू तथा कश्मीर के पुनर्गठन के परिदृश्य में इस क्षेत्र में एक भयावह स्थिति उत्पन्न करने संबंधी पाकिस्तान के प्रयासों को विफल किया है |उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र, मानवाधिकार परिषद तथा इस्लामिक सहयोग संगठन जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर जम्मू तथा कश्मीर के मुद्दे पर इस्लामाबाद ने भारत के विरुद्ध बार-बार भ्रामक तथा द्वेषपूर्ण प्रचार किया है |

बहरहाल, मंत्री ने कहा कि नई दिल्ली ने इस्लामाबाद के सभी प्रयासों को पूरी तरह से विफल कर दिया है | उन्होंने कहा कि कई देशों ने पाकिस्तान को किसी भी तरह अपनी धरती का उपयोग आतंकवाद के लिए नहीं होने देने के लिए कहा है |

गृह राज्य मंत्री जी॰ किशन रेड्डी ने बुधवार को राज्य सभा को कहा कि बालाकोट फैसिलिटी के प्रतिक्रिया स्वरूप पाकिस्तान आधारित आतंकी गुट हमले की कोशिश में हैं | ध्यातव्य है कि इस वर्ष वायु सेना ने कथित ठिकाने पर हवाई हमले किए थे | उन्होंने कहा कि बालाकोट में इसके शिविरों पर किए गए हमले के प्रतिक्रियास्वरूप आतंकी गुट हमले करने तथा भारत के विरुद्ध जिहादी गतिविधि को फिर से शुरू करने की कोशिश में हैं |

वित्त मंत्री, निर्मला सीतारामन ने बुधवार को कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में किसी प्रकार की मंदी नहीं है तथा सरकार इसमें और उछाल लाने के लिए ठोस क़दम उठा रही है | देश की आर्थिक स्थिति पर राज्य सभा में एक अल्प समय की चर्चा का उत्तर देते हुए, उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई उपाय किए गए हैं |

बृहस्पतिवार को राज्य सभा को सूचित करते हुए विदेश राज्य मंत्री, वी॰ मुरलीधरण ने कहा कि विभिन्न राजनीतिक पार्टियों से संबन्धित यूरोपीय संसद के 27 सदस्यों (एमईपीएस) के एक समूह ने दिल्ली आधारित एक विचार मंडली, गुटनिरपेक्ष अध्ययन के अंतर्राष्ट्रीय संस्थान के आमंत्रण पर 28 अक्तूबर से 01नवंबर 2019 तक भारत की यात्रा की | भारत को आतंकवाद कैसे प्रभावित कर रहा है, इसे समझने के लिए इन सदस्यों ने कश्मीर की यात्रा करने की इच्छा जताई | यूरोपीय संसद के सदस्यों के लिए बैठकें हुईं तथा कुछ विदेशी नेताओं ने वहाँ की यात्रा भी की | मंत्री ने कहा कि इस यात्रा के दौरान यूरोपीय संसद के सदस्यों को आतंकवाद के ख़तरे का आभास मिला कि कैसे यह ख़तरा भारत विशेष रूप से संघशासित क्षेत्र जम्मू तथा कश्मीर के लिए विध्वंसकारी हो सकता है | उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आदान-प्रदान लोगों से लोगों के संपर्क को गहरा बनाने में भारत की विदेश नीति के उद्देश्यों के अनुकूल हैं तथा ये संपर्क अन्य देशों के साथ नई दिल्ली के सम्बन्धों को बढ़ावा देने में मददगार हो सकते हैं |

 

आलेख – वी॰ मोहन राव, पत्रकार

अनुवादक\वाचक – मनोज कुमार चौधरी