वियतनाम : भारत की एक्ट ईस्ट नीति में एक भरोसा

सोशलिस्ट रिपब्लिक ऑफ़ वियतनाम की उप-राष्ट्रपति, सांग थाई नो थिंह भारत के उप-राष्ट्रपति, श्री एम॰ वेंकैया नायडू के साथ शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के लिए भारत के आधिकारिक दौरे पर आयीं थीं | भारत की एक्ट ईस्ट नीति तथा भारत की विशाल हिन्द-प्रशांत रणनीति में वियतनाम एक उचित देश है | इसके अलावा, दक्षिण-पूर्व एशिया के साथ विस्तृत आर्थिक तथा रणनीतिक संपर्कों को विकसित करने के लिए मुख्य उद्देश्य के रूप में सीएलएमवी देशों अर्थात कंबोडिया, लाओ पीडीआर, म्यांमार तथा वियतनाम के लिए नई दिल्ली के दृष्टिकोण के प्रति हनोई महत्वपूर्ण है |

      हाल की यात्रा का फ़ोकस भारत-वियतनाम व्यापक रणनीतिक साझेदारी को और सशक्त करने पर था | उप-राष्ट्रपति, सांग थाई नो थिंह की यात्रा के दौरान भारत तथा वियतनाम को जोड़ने वाली सीधी उड़ान की सेवा की घोषणा की गई | साथ ही, दिल्ली में वॉयस ऑफ़ वियतनाम के एक आवासीय कार्यालय की स्थापना करने संबंधी एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए |  वियतनाम की उप-राष्ट्रपति ने अपनी यात्रा के दौरान बोध गया का दर्शन भी किया | 

       2016 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब वियतनाम का दौरा किया, तब द्विपक्षीय संबंध एक नियम-आधारित क्षेत्रीय व्यवस्था को समर्थन देने के उद्देश्य के साथ उन्नत हुए | वियतनाम भारत की एक्ट ईस्ट नीति के प्रति एक सकारात्मक दृष्टिकोण रखता है तथा क्षेत्रीय मुद्दों पर भारत की सशक्त भूमिका का स्वागत करता  है | द्विपक्षीय रक्षा तथा सुरक्षा सहयोग उच्च स्तरीय यात्राओं के आदान-प्रदान, सेवा से सेवा के सहयोग, नौसैनिक जहाज़ यात्राओं, प्रशिक्षण तथा क्षमता वर्धन, रक्षा उपकरण ख़रीद तथा तकनीक हस्तांतरण से सशक्त हुए हैं | इसके अलावा, आसियान डिफ़ेन्स मिनिस्टर्स मीटिंग प्लस, पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन, मेकोंग गंगा सहयोग, एशिया यूरोप बैठक, संयुक्त राष्ट्र और विश्व व्यापार संगठन जैसे क्षेत्रीय मंचों में सहयोग ने द्विपक्षीय रक्षा तथा सुरक्षा सहयोग को और सशक्त बनाया है |

      2016 में भारत ने 500 मिलियन अमरीकी डॉलर की रक्षा ऋण व्यवस्था का विस्तार किया था | रक्षा ख़रीद के लिए ऋण व्यवस्था का प्रयोग करते हुए लार्सन एंड टूब्रो तथा वियतनाम बॉर्डर गार्ड्स के बीच समुद्र तटीय तीव्र गति की गश्ती नौकाओं के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए | इसके साथ, भारत ने न्हा चांग के टेलिकम्युनिकेशन्स विश्वविद्यालय में एक आर्मी सॉफ्टवेयर पार्क के निर्माण के लिए पाँच मिलियन अमरीकी डॉलर के अनुदान देने के प्रति वचनबद्धता जताई | इसके अलावा, अंतर्राष्ट्रीय अपराधों से निपटने के लिए दोनों देशों के तट रक्षक बलों के बीच एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए | इसके अतिरिक्त, वियतनाम के जन सुरक्षा मंत्रालय और भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स तथा सूचना तकनीक मंत्रालय के बीच साइबर सुरक्षा पर एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए | 

      रक्षा तथा सुरक्षा सहयोग के अतिरिक्त, आर्थिक सहयोग द्विपक्षीय सम्बन्धों में एक महत्वपूर्ण स्तम्भ है | हनोई के शीर्ष दस व्यावसायिक साझेदारों में भारत भी शामिल है | आसियान समूह में, सिंगापुर के बाद भारत के लिए वियतनाम दूसरा सबसे बड़ा निर्यात गंतव्य है तथा इंडोनेशिया, सिंगापुर और मलेशिया के बाद चौथा सबसे बड़ा व्यवासायिक साझेदार है | वस्त्र तथा टेक्सटाइल, फ़ार्मास्युटिकल्स, कृषि-उत्पाद, चमड़ा तथा जूते और अभियांत्रिकी से संबन्धित सेवाओं समेत पाँच महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर विशेष रूप से फ़ोकस है | 

      दक्षिणपूर्व एशिया की तेज़ी से विकसित होती अर्थव्यवस्थाओं में से एक, वियतनाम भारत के लिए कई अवसर प्रदान करता है | भारत ने ऊर्जा, खनिज अनुसंधान, कृषि-प्रसंस्करण, चीनी, विनिर्माण, कृषि रसायन, आईटी तथा ऑटो कलपुर्ज़ों जैसे क्षेत्रों में निवेश किया है | वियतनाम ने विवादास्पद दक्षिण चीन सागर समेत कई क्षेत्रों में भारतीय निवेश का स्वागत किया है | ओएनजीसी-विदेश की ब्लॉक 6॰1 समेत वियतनाम के जलकार्बन अनुसंधान खंडों में हिस्सेदारी है | ब्लॉक 6॰1 संपत्ति उत्पन्न कर रहा है तथा ब्लॉक 128 फू कान्ह तटीय बेसिन में एक अनुसंधानमूलक संपत्ति है | ओएनजीसी के अलावा, टाटा पॉवर, रिलायंस इंडस्ट्रीज, गेंपेक्स, जेके टायर्स तथा ग्लेनमार्क फ़ार्मास्युटिकल्स लि॰ समेत कई भारतीय कंपनियाँ वियतनाम में व्यवसाय की संभावना तलाश रहीं हैं | 

       भारत-वियतनाम रणनीतिक साझेदारी के साक्ष्य इतिहास में मिलते हैं | 1954 में, सिन बीएन फू पर फ्रेंच के विरुद्ध वियतनाम की जीत के बाद, यहाँ का दौरा करने वालों में एक पंडित जवाहरलाल नेहरू भी थे | इस यात्रा के बाद, भारत में सम्मान की नज़र से देखे जाने वाले और अंकल हो के नाम से जाने जाने वाले राष्ट्रपति हो ची मिन्ह ने 1958 में भारत का दौरा किया | इसके बाद भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ॰ राजेंद्र प्रसाद ने 1959 में वियतनाम का दौरा किया | तब से, उच्च स्तरीय यात्राओं का सिलसिला जारी है तथा इस कारण द्विपक्षीय सम्बन्धों में मज़बूती आई है | 

        भारत की एक्ट ईस्ट नीति के लिए वियतनाम महत्वपूर्ण है | ऐतिहासिक प्रभाव, समान क्षेत्रीय तथा वैश्विक उद्देश्यों को नई ऊंचाइयों तक ले जाने के प्रति भारत-वियतनाम व्यापक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने और बढ़ते भू-रणनीतिक विकास के परिदृश्य में विस्तृत हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग को प्रगाढ़ बनाने के लिए भारत निवेश करना जारी रखेगा |   

आलेख – डॉ॰ तितली बसु, पूर्व तथा दक्षिण-पूर्व एशिया मामलों की रणनीतिक विश्लेषक 

अनुवादक/वाचक – मनोज कुमार चौधरी