आर.बी.आई. ने आर्थिक वृद्धि को सहारा देने के लिए उधार दरों में कटौती की तथा ऋण अदायगी पर 3 महीने तक मोरेटोरियम को बढ़ाया          

शुक्रवार को रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने रेपो दर में 40 आधार अंक की कटौती करते हुए, इसे 4.4% से घटाकर 4% कर दिया तथा उदार रवैया को बनाए रखने के लिए, रिवर्स रेपो रेट को घटाकर 3.35% किया। आर.बी.आई. के गवर्नर, शक्तिकांत दास ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि 6 सदस्य मौद्रिक नीति समिति ने ब्याज दर में 40 आधार अंक की कटौती के समर्थन में पांच के मुक़ाबले एक मत दिया।

आर.बी.आई. गवर्नर ने कहा कि राज्य सरकारों के सामने खड़े वित्तीय नियंत्रणों को आसान बनाने के लिए तथा कार्यकारी पूंजी की बेहतर पहुंच तथा ऋण सेवा पर राहत प्रदान करते हुए, वित्तीय दबाव को आसान करने के लिए, निर्यात और आयात को समर्थन देने तथा बाजार की कार्य पद्धति को दुरुस्त करने के लिए घोषित उपायों को चार श्रेणी में बांटा जा सकता है।

कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए और लोगों को राहत देते हुए आर.बी.आई. ने ऋण अदायगी के मोरेटोरियम को 3 महीने तक बढ़ा दिया है। यह विस्तार 1 जून से ही शुरू होकर 31 अगस्त 2020 तक है।