मुख्य समाचार (14.09.2020)

1 भारतीय संसद का मॉनसून सत्र आरंभ हो चुका है। कोविड-19 संक्रमण से बचाव के उपायों के तहत संसद के दोनों संदनों की बैठकों के समय में अंतराल रहेगा। संसद की कार्रवाई के लिए मानदण्डों को औपचारिक रूप दे दिया गया है। 

 

2 मॉनसून सत्र की शुरूआत से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये सत्र विशेष परिस्थितियों में आयोजित किया जा रहा है। कोविड काल में सांसदों ने कर्तव्य निभाने का रास्ता चुना है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि संसद और उसके सभी सदस्य मिल कर ये संदेश प्रेषित करेंगे कि पूरा देश सैनिकों के साथ है। 

 

3 प्रधानमंत्री ने एक बार फिर कहा है कि जब तक कोविड-19 की वैक्सीन नहीं आ जाताहम सभी को सावधान रहना है। सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखते हुए मास्क पहनने चाहिए और हाथ भी धोने चाहिए। 

 

4 शनिवार और रविवार सहित संसद के मानसून सत्र की 18 बैठकें होंगी। सत्र के दौरान 45 विधेयक और 2 वित्तीय प्रस्ताव चर्चा के दायरे में हो सकते हैं। इन विधेयकों में किसानों के कल्याण और भारत की केंद्रीय चिकित्सा परिषद से जुड़े विधेयक, अनिवार्य वस्तु संसोधन विधेयक और महामारी संधोधन विधेयक शामिल हो सकते हैं। 

 

5 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के अनुसार कोविड-19 का वैक्सीन मार्च 2021 तक तैयार होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि लोगों को भरोसा दिलाने के लिए वैक्सीन की पहली खुराक वहीं लेंगे। 6 स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने संसद के दोनों सदनों को कोविड-19 से निपटने के उपायों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संक्रमण बढ़ने के बावजूद भारत में संक्रमण मुक्ति की दर 78 फीसदी है, सक्रिय मामले 20.36 फीसदी हैं और इसकी वजह से मृत्युदर 1.64 फीसदी है। 

 

7 देश में कोविड-19 से ठीक होने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है। पिछले 24 घंटे में 77512 लोग ठीक हुए हैं। अब तक 37 लाख 80 हजार 107 लोग इस संक्रमण से छुटकारा पा चुके हैं। 

 

8 पिछले 24 घंटे में 9 लाख 78 हजार 500 परीक्षण कोविड-19 की जांच के लिए किए गए। 

 

9 जापान की सत्ताधारी लिबरल डैमोक्रेटिक पार्टी आज देश के नए प्रधानमंत्री के चुनाव के लिए बैठक​ कर रही है। बीमारी के कारण प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने इस्तीफा दे दिया था। 

 

10 लीबिया के शहर नेंगाजी में प्रदर्शनकारियों ने सरकारी मुख्यालयों में आग लगा दी। सन 2014 से लीबिया देश के पूर्व और पश्चिमी भागों में परस्पर विरोधी गुटों में बंटा हुआ है।