ममता कुलकर्णी पर गिरफ्तारी की तलवार, अदालत ने जारी किया गैरजमानती वॉरंट

मुंबई से सटे ठाणे की जिला अदालत ने कथित अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ माफिया विक्की गोस्वामी और उनकी सहयोगी और अभिनेत्री ममता कुलकर्णी के खिलाफ एफेड्रिन बरामदगी मामले में सोमवार को गैर जमानती वॉरंट जारी किया है। ममता कुलकर्णी और विक्की गोस्वामी के बारे में यह माना जाता है कि दोनों भारत के बाहर हैं। जिला न्यायाधीश एचएम पटवर्धन ने सोमवार को ममता और विक्की के खिलाफ गैरजमानती वॉरंट जारी किया है। ठाणे पुलिस ने पिछले साल महाराष्ट्र के सोलापुर में एवोन लाइफसाइंस पर छापा मारा था और वहां पुलिस को दो हजार करोड़ रुपये के कीमत की करीब 18.5 टन एफेड्रिन बरामद हुई थी। ठाणे पुलिस के अनुसार, एफेड्रिन सोलापुर के एवोन लाइफसाइंस से केन्या में विक्की गोस्वामी के नेतृत्व वाले मादक पदार्थ गिरोह को भेजा जाने वाला था। पुलिस ने इस मामले में 10 से अधिक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। पिछले साल सितंबर में मुंबई में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए ममता कुलकर्णी के वकीलों ने उनके रिकॉर्डेड बयान का विडियो दिखाया था, जिसमें ममता को बेगुनाह बताया था। ममता केन्या के मोंबासा में रहती हैं। वहां से जारी एक विडियो टेप में कहा, ‘मैं भारतीय संविधान का सम्मान करती हूं, लेकिन ठाणे पुलिस और अमेरिकी ड्रग एन्फोर्समेंट एडमिनिस्ट्रेशन पर भरोसा नहीं करतीं। मैं एक योगिनी हूं। मैं पिछले 20 साल से अध्यात्म की दुनिया में रमी हुई हूं। मैं निर्दोष हूं, अपने खिलाफ लगे आरोप से आहत हूं।’ उन्होंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और गृहराज्य मंत्री किरन रिजिजू को पत्र लिखकर मांग की है कि उन्हें ड्रग मामले में घसीटने वाली महाराष्ट्र पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की जाए।