उच्चतम न्यायालय ने परित्य्क्ता पत्नीओ को भरण पोषण के लिए मानदंड तय किए

उच्चतम न्यायालय ने परित्य्क्ता पत्नीओ को भरण पोषण के लिए पति की ओर से दी जाने वाली राशि के बारे में मानदंड तय कर दिए हैं। न्यायालय ने कहा है कि पति के वेतन का एक चौथाई हिस्सा समुचित और न्यायोचित होगा। मीडिया की खबरों के अनुसार न्यायमूर्ति आर.भानुमति और न्यायमूर्ति एम. एम. सनातनगौड की पीठ ने पश्चिम बंगाल के एक निवासी को निर्देश दिया है कि अपनी पूर्व पत्नी  और उसके बेटे के भरण पोषण के लिए अपने वेतन का 25 प्रतिशत हिस्सा दे।