संगीतकार-शिव हरि

आलेख व प्रस्तुति – वीरेन्द्र कौशिक

संयोजन – सुरेश मीणा 

 

 

 

फिल्म इंडस्ट्री की प्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी शिव-हरि ने फिल्म सिलसिला से अपने करियर की शुरुआत की। पंडित शिव कुमार शर्मा और हरि प्रसाद चौरसिया की शिव-हरि नाम की जोड़ी संगीत जगत की सफलतम जोड़ियों में से एक है। शिव कुमार शर्मा एक संतूर वादक हैं और शिवप्रसाद चौरसिया एक बाँसुरीवादक। भारतीय शास्त्रीय संगीत को पश्चिमी हाव-भाव में ढालकर शिव-हरि की जोड़ी ने सबसे पहले 1967 में  ‘कॉल ऑफ द वैली’ नाम का एक म्यूज़िक एलबम जारी किया। एलबम में अलग-अलग वाद्य यंत्रों के अलावा गिटार के अद्भुत संयोजन से सजा संगीत, पश्चिमी लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय भी हुआ। इसके बाद शिव-हरि ने ज्यादातर मंच-प्रस्तुति के ज़रिए ही अपना संगीत लोगों के बीच पहुंचाया लेकिन यश चोपड़ा ने इनके संगीत की अलग प्रवृत्ति को पहचानते हुए सिलसिला में संगीत देने के लिए आमंत्रित किया। इसके बाद चांदनी, लम्हे जैसी यश चोपड़ा की कई फिल्मों में शिव-हरि ने अपना संगीत दिया। शिव-हरि के संगीत की ताज़गी गानों को सदाबहार बना देती है। शिव-हरि ने अपने करियर में ज़्यादातर यश चोपड़ा के साथ ही काम किया। यश चोपड़ा अपनी फिल्मों के संगीत के लिए शिव-हरि को ही सबसे पहले दिमाग़ में रखते थे। शिव-हरि अभी भी भारत समेत पश्चिमी देशों में अपनी मंच-प्रस्तुति से लोगों को मंत्र-मुग्ध कर देते हैं।