संसद के समक्ष मुद्दे

आलेख: नीरेंद्र नारायण देव, पत्रकार

इस सप्ताह संसद की कार्यवाही में सबसे प्रमुख रहा राज्यसभा में सभापति का बदलाव। राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी का कार्यकाल संपन्न हुआ और उनके उत्तराधिकारी श्री एम वेंकैया नायडू ने उपराष्ट्रपति पद संभाला। सभा ने श्री नायडू का राज्य सभा में स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके स्वागत में अपने संक्षिप्त सम्बोधन में कहा कि श्री नायडू पहले ऐसे उप-राष्ट्रपति हैं जिनका जन्म स्वतंत्र भारत में हुआ और जिनके पास संसदीय जीवन का लंबा अनुभव है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि नायडू राज्यसभा के लिए नए नहीं हैं। श्री नायडू ने 11 अगस्त को अपने शपथ ग्रहण के कुछ ही समय बाद राज्यसभा में पद संभाला और सभा के सदस्यों का धन्यवाद प्रकट करते हुए सदस्यों तथा देश की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की प्रतिबद्धता व्यक्ति की।

इससे पहले अपना कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर विदा हो रहे उपराष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी कोसदस्यों ने भावपूर्ण विदाई दी और उच्च सदन की कार्यवाही को व्यवस्थित ढंग से चलाने के लिए उनके द्वारा किए गए नवाचार के लिए उनको धन्यवाद भी दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभा को उनके योगदान के लिए श्री अंसारी का धन्यवाद किया और कहा कि वह संसारी के विभिन्न देशों के बारे में गंभीर अनुभव और समझ से लाभांवित हुए हैं।

इस सप्ताह संसद के दोनों सदनों ने भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर बड़े पैमाने पर चर्चा की। लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कि 1942 से 1947तक चले भारत छोड़ो आंदोलन की तरह ही देश के निर्माण के लिए 2017 से 2022 तक जनता के हृदय में आंदोलन की आग पुनः प्रज्ज्वलित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि 1942 में नारा दिया गया करेंगे या मरेंगे और अब हमें नारा देने की जरूरत है करेंगे और करके रहेंगे। श्री मोदी ने कहा कि अगले 5 वर्ष संकल्प सिद्धि के होने चाहिए। इस विषय पर कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया सहित अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं ने भी अपने विचार रखे। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि देश की जनता को एकजुट रखने की एक पहल शुरू करने की आवश्यकता है जैसा भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान हुआ था।

रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में बताया कि भारत के समक्ष इस समय आतंकवाद सबसे बड़ा खतराहै। एक ओर वामपंथी अतिवाद तो दूसरी तरफ सीमा पार से आतंकियों की चुनौती।

लोकसभा ने एसबीआई सब्सिडियरी बैंक अधिनियम 1959 और संबंधित विधेयक पारित किए। इसके चलते 5 सब्सीडियरी बैंकों का भारतीय स्टेट बैंक में विलय हो जाएगा। वित्त राज्यमंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि इस विलय से एसबीआई दुनिया के 50 सबसे बड़े बैंकों में शामिल हो जाएगा और इसे 45वां स्थान हासिल होगा। संसद ने भारतीय रिज़र्व बैंक को बैंकिंग क्षेत्र में नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स के संबंध में फैसला लेने की छूट देने वाले एक विधायक पर भी अपनी सहमति जताई। एक अनुमान के अनुसार तकरीबन 8 लाख करोड रुपए की संपत्ति नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स में शामिल है।

लोकसभा में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के अंतर्गत पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ पर भी चर्चा की गई, जिसमें गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हाल ही में पूर्वोत्तर भारत के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत के लिए दो हजार करोड़ रुपए की सहायता राशि जारी करने की घोषणा की।

लोकसभा में सरकार की तरफ से यह भी जानकारी दी गई कि वस्त्र उद्योग ने वस्तु एवं सेवा कर और श्रम सुधारों का स्वागत किया है। वस्त्र उद्योग के क्षेत्र में व्यापक सुधार हुआ है और बड़े पैमाने पर विदेशी निवेशआकर्षित हो रहा है। केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रश्नकाल के दौरान कहा कि बीते 3 वर्षों में सरकार द्वारा किए गए सुधारात्मक उपायों के चलते क्षेत्र में विदेशी निवेश आकर्षित करने में मदद मिली है।

राज्यसभा ने इस सप्ताह अपनी सेवाएं पूर्ण कर रहे 9 सदस्यों में सीपीआईएम के सीताराम येचुरी, तृणमूल कांग्रेस के डेबेन्द्रनाथ बंदोपाध्याय और भारतीय जनता पार्टी के दिलीप भाई पांड्या को भावपूर्ण विदाई दी। जबकि छह अन्य सदस्य पुनः चुने गए हैं, जिनमें अहमद पटेल, स्मृति ईरानी, डेरेक ओ ब्रायन, डोला सेन, सुखेंदु शेखर और पी भट्टाचार्य शामिल हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी गुजरात से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए।