13.08.2017

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बच्‍चों की मौत की ख़बर लगभग सभी अखबारों कीसुर्ख़ी बनी है। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को निलंबित करने और मुख्‍यमंत्री के जांच कमेटी गठित करने की ख़बर भी साथ ही है। अख़बारों ने मामले पर प्रधानमंत्री के रिपोर्ट मांगने और प्रधानमंत्री कार्यालय की कड़ी नज़र को भी सुर्ख़ी बनाया है। हालांकि नवभारत टाइम्‍स, राष्‍ट्रीय सहारा और हिन्‍दुस्‍तान ने ऑक्‍सीजन की जगह अन्‍य कारणों को मौतों की वजह बताया है।

इस बीच, राष्‍ट्रीय सहारा ने मस्तिष्‍क ज्‍वर वार्ड के प्रभारी डॉक्‍टर कफील खान की सेवाओं की सराहना करते हुए लिखा है – सीमित निजी साधन होने के बावज़ूद वे काम करते रहे, लेकिन अनहोनी बचा नहीं सके। अख़बार ने ख़बर का शीर्षक दिया है – डॉक्‍टर कफील बने फरिश्‍ता।

भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर हुई फ्लैग मीटिंग बेनतीजा – लिखा है देशबंधु ने। पंजाब केसरी लिखता है – डोकलाम को लेकर चीन कर रहा है बचकानी हरकतें, भारत का रवैया अनुभवी देश जैसा।

दिल्‍ली में स्‍वतंत्रता दिवस के लिए कड़ी सुरक्षा व्‍यवस्‍था छह सौ सी.सी.टी.वी. कैमरे और चप्‍पे-चप्‍पे पर 20 हज़ार जवानों की तैनाती की ख़बर हरि भूमि में है। दैनिक ट्रिब्‍यून ने लिखा है – लालकिले की किलेबंदी, राहों पर पैनी नज़र।

दिल्‍ली में 14 अगस्‍त की शाम पांच बजे से 15 अगस्‍त दोपहर 2 बजे तक मेट्रो स्‍टेशनों की पार्किंग बंद रहने और स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर डी.एम.आर.सी. के लोगों को तोहफे के तौर पर 50 प्रतिशत की छूट की ख़बर भी है।

हिन्‍दुस्‍तान, वीर अर्जुन और अमर उजाला ने दिल्‍ली से लगे नोएडा में जे.पी. बिल्‍डर के खिलाफ निवेशकों के गुस्‍से की ख़बर पहले पन्‍ने पर दी है।

दैनिक भास्‍कर ने राजस्‍थान के झालावाड़ क्षेत्र में इलाके की हरी-भरी तस्‍वीर के साथ लिखा है – जिस जगह चारों तरफ सूखा पसरा रहता था, वहां पानी रुकने के स्‍ट्रक्‍चर बनाकर पौधे लगाए गए और पूरा इलाका हरियाली से भर गया।