जन-धन योजना से देश के 99.99 प्रतिशत परिवारों तक पहुंची बैंकिंग सेवाएं: वित्त मंत्री अरुण जेटली

केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जन-धन योजना को देश में अब तक का सबसे बड़ा वित्तीय समावेशन अभियान करार देते हुए कहा कि इससे पहले देश के करीब 42 फीसदी परिवार बैंकिंग सेवाओं से वंचित थे जबकि योजना के शुरु होने के महज तीन साल के भीतर आज देश के 99.99 फीसदी परिवारों के पास कम से कम एक बैंक खाता मौजूद है।

श्री जेटली यहां ‘वित्तीय समावेशन’ पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि जन-धन योजना ने वित्तीय समावेशन का जो काम किया है उसका असर आज दिखाई दे रहा है। योजना के शुरु होने के तीन साल के भीतर 30 करोड़ परिवारों ने जन धन खाते खुलवा लिए।

सितंबर 2014 में योजना के शुरु होने के तीन महीने बाद 76.81 प्रतिशत बैंक खाते जीरो बैंलेस वाले थे जिनमें कोई रकम जमा नहीं की गयी थी लेकिन आज ऐसे खातों की संख्या घटकर 20 फीसदी रह गयी है। उन्होंने कहा कि इन खातों को सिर्फ खोलना ही काफी नहीं है बल्कि इन्हें संचालित करने की भी जरुरत है। इस बात का ध्यान रखते हुए ही केन्द्र और राज्य सरकारों की कई लाभ योजनाओं की राशि सीधे लाभार्थियों के जन-धन खाते में जमा करायी जा रही है।