फ़िल्मकार बिमल राय

 

बिमल राय का जन्म 12 जुलाई 1909 को पूर्वी बंगाल के एक जमींदार परिवार में हुआ था। वे बचपन से ही अंतर्मुखी स्वभाव के थे। जब उनका जन्म हुआ तो भारत गुलाम था ।आम आदमी की हालत दयनीय थी जिसे बिमल रॉय ने बचपन से ही देखा और यही दुःख दर्द बाद में उनकी फिल्मों का विषय बना। सिनेमटोग्राफर से डायरेक्टर और प्रोड्यूसर बने बिमल राय ने अपनी फिल्मों के जरिये सामाजिक सरोकार को सबसे ऊपर रखकर हमेशा सार्थक फिल्मों का निर्माण किया । यही वजह है कि बिमल राय का नाम आते ही हमारे ज़हन में सामाजिक फ़िल्मों का ताना.बाना घूमने लगता हैं। उनकी फ़िल्में मध्य वर्ग और ग़रीबी में जीवन जी रहे समाज का आईना हैं। बिमल राय ने अपनी फ़िल्मों में सामाजिक समस्याओं को तो उठाया ही साथ ही उनके समाधान का भी प्रयास किया कि उन स्थितियों से कैसे निबटा जा सकता है। बिमल राय को सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के लिए एक राष्ट्रीय पुरस्कार और सात फ़िल्मफेयर पुरस्कार मिले। लम्बी बीमारी के कारण 8 जनवरी 1966 को मुंबई में उनका निधन हो गया। बिमल राय भले ही हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उन्होंने फ़िल्मों की जो भव्य और अनुपम विरासत छोड़ी है वह सिनेमा जगत के लिए हमेशा अनमोल रहेगी।