13.01.2018

मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय के चार न्यायाधीशों के विद्रोह की खबरें आज सभी समाचार पत्रों में छाई हुई हैं। राष्ट्रीय सहारा ने इसे देश का सुप्रीम संकट माना है। पत्र ने अटार्नी जनरल के इन शब्दों को भी प्रमुखता से दिया है कि जो कुछ हुआ उसे टाला जा सकता था। राजस्थान पत्रिका का कहना है कि पहली बार जनता की अदालत में जज। जनसत्ता की सुर्खी है-देश में पहली बार सर्वोच्च न्यायालय के चार न्यायाधीशों ने खुलेआम कहा-इंसाफ के घर में नहीं सुनवाई।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के 30 साथी उपग्रहों के साथ कार्टोसेट-दो के सफलतापूर्वक प्रक्षेपण को हिन्दुस्तान ने सचित्र देते हुए लिखा है इससे चीन और पाकिस्तान पर नज़र रहेगी। अमर उजाला की सुर्खी है इसरो ने शतक के साथ रचा इतिहास।

राष्ट्रीय युवा महोत्सव के उदघाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का यह बयान कि देश को बांटने वालों को युवा देंगे जवाब। राष्ट्रीय सहारा सहित सभी अखबारों में है। पत्र ने उनकी इस सलाह को भी दिया है कि देश के युवा, जॉब देने वाले बने इसके लिए सरकार देगी हर संभव मदद।

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का यह बयान कि चीन ताकतवर तो भारत भी कमजोर नहीं। दैनिक जागरण में प्रमुखता से है। जनसत्ता ने उनके इस बयान को दिया है कि चीन सीमा पर ज्यादा निगरानी की जरूरत।

बम्बई उच्च न्यायालय का यह फैसला कि बिल का भुगतान नहीं होने पर किसी मरीज को अस्पताल में रखना गैर कानूनी है। हरिभूमि सहित अधिकतर अखबारों में है। पत्र ने इसे शीर्षक दिया है कि बिल का भुगतान न कर पाने वाले मरीजों को घर जाने से नहीं रोक पाएंगे अस्पताल।

जर्मनी के वैज्ञानिकों की अध्ययन के बाद यह चेतावनी कि-ग्लोबल वार्मिंग से 20 वर्षों में पड़ेगी भयंकर बाढ़ की मार। दैनिक जागरण पत्र में है पत्र ने आगे लिखा कि भारत, अफ्रीका, अमरीका और मध्य यूरोप को करना होगा सामना।