अंडमान-निकोबार द्वीप समूह प्रधानमंत्री के 2022 तक सबको आवास के सपने को साकार करने में महत्वपूर्ण योगदान कर रहा है

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 2022 तक सबको आवास के सपने को साकार करने में महत्वपूर्ण योगदान कर रहा है। 2015 में शुरू की गई केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य गरीबों को किफायती दर पर आवास उपलब्ध कराना है।

अंडमाननिकोबार द्वीप समूह जैसे दूर-दराज के क्षेत्र में भी प्रधानमंत्री आवास योजना को लागू करने से आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को काफी राहत मिली हैा पोर्ट ब्‍लेयर नगर पालिका परिषद के सचिव सुनील आंचीपाका ने बताया कि लाभार्थियों को विभिन्‍न चरणों के हिसाब से आर्थिक सहायता जारी की जा रही है। अभी तक हमने 34 बेनेफिशरीज को 14.40 लाख तक इश्‍यू कर चुके हैं और 34 बेनेफिशरीज का लिस्‍ट भी हमने पब्लिश कर चुका है। अभी तक वैरियस प्‍लेसिस में काम कर रहा है। पोर्ट ब्‍लेयर के ब्रिचगंज के लाभार्थी ने बताया कि पहले उसके पास रहने के लिए मकान नहीं था, लेकिन प्रधानमंत्री आवास योजना से अब उनका मकान का सपना साकार हुआ है।

मेरे पास में घर नहीं था तो मेरे को एक छत मिला है रहने के लिए। प्रधानमंत्री का आभारी है। अभी तक मेरे को 40 हजार रुपया मिला है, उन्‍हें हम भी अपना डाल दिया है। हम आहिस्‍सा आहिस्‍ता अपना घर बनाता है। अपना बच्‍चा लोग लेकर हम उसी छत के नीचे में रहता है।- भातूबस्‍ती निवासी आईशा बीबी का कहना है कि इस योजना से उनके परिवार में खुशहाली आई है। – स्‍कीम सुना था प्रधानमंत्री आवास योजना के द्वारा हमने अप्रोच किया म्‍युनिसपल में और अपलाई की और उसका बेनीफिट मुझे दो किश्‍तों में मिला है 80 थाउजेंट उससे मैंने अपना घर शुरू किया है। घर अभी आधे से ज्‍यादा कम्‍पलीट हो गया है। कुछ उसमें मेरा अपना पैसा भी था और नरेन्‍द्र मोदी जी का तहदिल से धन्‍यवाद देती हूं कि उन्‍होंने इतना अच्‍छा स्‍कीम आम आदमी के लिए बनाया है, जिससे हर आदमी को अपना छत व अपना घर मिल जाएगा। कार के इस कदम से द्वीपों में बेघरों को घर मिलेगा और उनके तथा उनके बच्‍चों का भविष्‍य सुरक्षित होगा।