वाशिंगटन में पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश को दी गई अंतिम विदाई

वाशिंगटन के हिलटॉप गिरजाघर में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर लगभग 3000 गणमान्य लोग पहुंचे। इनमें कई देशों के राजनेता भी शामिल थे। उनके बेटे जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने पिता को याद करते हुए कहा कि वह एक बेहतरीन शख्स थे, जो आमतौर पर किसी की भी निंदा नहीं करते थे। वह सामने वाले में अच्छाई ढूंढते थे और आमतौर पर उसे तलाश लेते थे। जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने कहा, ‘उन्होंने मुझे दिखाया कि एक राष्ट्रपति बनने का क्या मतलब है, जो ईमानदारी से कार्य करता है, साहस के साथ आगे बढ़ता है और देश के नागरिकों को दिल से प्यार करता है।’ दिवंगत श्री बुश के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए दुनियाभर के शीर्ष नेता व गणमान्य लोग अमेरिका पहुंचे। अमेरिकी कैटल में रखे पार्थिव शरीर को बाद में अंतिम संस्कार के लिए नेशनल कैथ्रेडल ले जाया गया। उनके बेटे व पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू. बुश के अलावा कनाडा के पूर्व प्रधानमंत्री ब्रायन मलरोनी, पूर्व अमेरिकी सीनटेर एलन सिंपसन और प्रेसिडेंशिल हिस्टोरियन जॉन मीचम, दिवंगत राष्ट्रपति के बायोग्राफर उनके सम्मान में बोले। अमेरिका के 41वें राष्ट्रपति जॉर्ज एच. डब्ल्यू. बुश का पिछले शुक्रवार 94 साल की उम्र में निधन हो गया था। ब्रिटेन के शाही घराने से राजकुमार चार्ल्स, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल, जॉर्डन के सुल्तान अब्दुल्ला द्वितीय उन गणमान्य लोगों में रहे, जिन्होंने दिवंगत राष्ट्रपति को श्रद्धांजलि दी। उनके सम्मान में अमेरिका में राष्ट्रीय शोक दिवस घोषित किया गया और कई सरकारी कार्यालय और अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज बंद रखे गए।