ईंधन और खाद्य पदार्थों की कीमतों में गिरावट के कारण थोक मूल्य पर आधारित मुद्रा स्फीति की दर पिछले वर्ष दिसंबर में, आठ महीने में सबसे कम रही

ईंधन और कुछ खाद्य सामग्री की कीमतों में कमी आने के कारण थोक मूल्‍य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्‍फीति की दर  दिसंबर 2018 के दौरान तीन दशमलव आठ शून्‍य प्रतिशत पर आ गई। यह आठ महीनों में सबसे कम है। नवंबर, 2018 में यह चार दशमलव छह चार प्रतिशत थी। खुदरा मूल्‍य सूचकांक पर आधारित मुद्रा स्‍फीति के ब्‍यौरे आज जारी किए जाएंगे।

मौद्रिक नीति निर्धारित करते समय रिजर्व बैंक केवल खुदरा मूल्‍य के आंकड़ों को ही शामिल करता है। इस वित्‍त वर्ष के लिए रिजर्व बैंक ने पांचवीं मौद्रिक नीति समीक्षा में ब्‍याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था, लेकिन यह अवश्‍य कहा था कि यदि मुद्रास्‍फीति नहीं बढ़ी तो ब्‍याज दरों में कटौती की जा सकती है।