समुद्री सुरक्षा पर चर्चा के लिए होगा नौसेना कमांडरों का सम्मेलन

देश की समुद्री सीमाओं पर बढ़ रही चुनौती और बदल रहे सुरक्षा हालातों की समीक्षा के लिए शीर्ष नौसैनिक कमांडरों का तीन दिवसीय सम्मेलन कल से शुरू होगा। नौसेना सूत्रों के अनुसार सम्मेलन में भारत की सुरक्षा क्षमता और जवाबी हमले की ताकत की भी समीक्षा की जाएगी। साथ ही पुलवामा आतंकी हमले से बदले सुरक्षा हालात पर भी विचार किया जाएगा। नौसेना द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि पुलवामा आतंकी हमले से जुड़ी घटनाओं के मद्देनजर इस सम्मेलन का बड़ा महत्व है। इसमें देश की नौसेना का नेतृत्व समुद्री सीमा पर पैदा चुनौतियों पर चर्चा करेगा। नौसेना के ढांचे में नीतियों और चुनौतियों पर चर्चा के लिए यह सर्वोच्च मंच है। इसमें नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा पूरे समय रहकर हर बिंदु पर गहन विचार-विमर्श में हिस्सा लेंगे। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण कल यानि मंगलवार को ही नौसैना कमांडरों को संबोधित करेंगी और उनसे वार्ता करेंगी। सम्मेलन में सेना और वायुसेना प्रमुख भी कुछ समय के लिए शामिल होंगे। उस दौरान वे नौसेना कमांडरों से संयुक्त कार्रवाई और चुनौतियों पर चर्चा करेंगे।