अदम्य साहसी स्वतन्त्रता संग्रामी एवम् कवि बिस्मिल

लेखक :  श्री छोटू लाल
वाचक :  श्री विष्णुबहादुर गुरुङ्ग
‘सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है’…. यी पँक्तिहरू गाउँदै भारतको स्वाधीनताका लागि फाँसीमा चढेका अमर शहीद पण्डित रामप्रसाद बिस्मिलको जन्म जयन्तीको अवसरमा प्रसारित विशेष वार्ता…